अफगानिस्तान: तालिबान ने अफगान महिलाओं को घर से काम करने का निर्देश दिया गया है

Women's Groups in India, Pakistan Have a Role to Play in Afghanistan's  Reconstruction

काबुल (अफगानिस्तान): अफगानिस्तान के शासकों ने सख्त इस्लामी कानून लागू करने के बाद, तालिबान में फंसी महिला-विरोधी बर्बर लोगों की एक वैश्विक छवि बनी
हुई है

1996-2001 के दौरान काबुल से अफगानिस्तान पर शासन करने के दौरान अफगान महिलाओं पर कई प्रकार की पाबंदिया लगायी गयी है

तालिबान द्वारा अफ़ग़ानिस्तान में सत्ता हासिल करने के साथ, अफ़ग़ान महिलाओं को वापस से डर के साये में जीना होगा

तालिबान शासन में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं, संगठन ने अफगान महिलाओं को घर से काम करने का निर्देश जारी किया है ।

सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने बतया की महिला सुरक्षा के लिए काम पर नहीं जाना चाहिए।

जब 1996 और 2001 के बीच सत्ता में आखिरी बार उग्रवादी समूह ने महिलाओं को कार्यस्थल से प्रतिबंधित कर दिया गया था , उन्हें घर से बाहर निकलने की अनुमति नहीं थी अपने पूरे शरीर को ढंक क्नकर ही घर से निकल सकती थी

New Delhi, India. 23rd Aug, 2021. An Afghan refugee holds a placard during  an anti-Taliban demonstration in New Delhi. Afghan refugees in New Delhi  and the Left parties stage an anti-Taliban demonstration

महिलाओं की सुरक्षा के लिए विश्व बैंक द्वारा अफगानिस्तान में फंडिंग रोकने और तालिबान के अधिग्रहण के बाद से मानवाधिकारों के हनन की रिपोर्ट में “पारदर्शी और त्वरित जांच” के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा बुलाए

पेंटागन ने बुधवार को घोषणा की कि 24 घंटों में कुल 19,000 लोगों ने अफगानिस्तान छोड़ दिया, जिसमें 42 अमेरिकी सैन्य विमानों से उड़ान भरने वाले 11,200 लोग और गठबंधन सहयोगियों द्वारा निकाले गए थे 7,800 अन्य शामिल थे।

Related posts

Leave a Comment