क्रिप्टो मार्केट में भारत के लोगों के 6 लाख़ करोड़ से भी ज्यादा रुपए लग चुके हैं अगर फ्रॉड हुआ तो किसी को ढेला भी नहीं मिलेगा

197

3 साल से बिना मंजूरी के असमंजस में चल रहे सभी के सभी क्रिप्टो मार्केट एक्सचेंज सरकार ने अभी तक कुछ भी नहीं दिया है मंजूरी असमंजस मैं है क्रिप्टो बिल और क्रिप्टो एक्सचेंज का नियम तथा उसको करने आदि की बातें।

हाल ही हुए कैलकुलेशन मैं पता चला है कि क्रिप्टो मार्केट में भारत के लोगों के 6 लाख़ करोड़ से भी ज्यादा रुपए लग चुके हैं ऐसे में मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं देखा यह जा रहा है कि अगर कहीं यहां पर फ्रॉड हो गया तो भारतीय लोगों को ₹1 भी नहीं मिलेगा क्योंकि ना तो क्रिप्टो को सरकार रेगुलेट कर रही है और ना ही इस पर कोई नियम बना है।

बिना किसी नियम और कानून के चल रही है सभी क्रिप्टो एक्सचेंज तो ऐसे में कभी भी कुछ भी हो सकता है इसमें घोटाला होना बहुत ही शोभा भी बन सकता है।

यह भी पढ़ें:-भारत का पहला बिटक्वाईन (bitcoin) घोटाला आया सामने…

क्रिप्टो काम कैसे करता है

दरअसल अगर देखा जाए तो क्रिप्टो एक्सचेंज डार्क वेब के लिए काम करता है जिस पर लोग अवैध खरीददारी करते हैं पर आजकल लोग क्रिप्टो को शेयर मार्केट समझ के पैसे लगा रहे हैं और ऐसे में इस समय क्रिप्टो का मार्केट इतना डाउन है कि लोग पचास पचास परसेंट घाटे में चल रहे हैं और देखा जाए तो अगर इस तरह से क्रिप्टो में घोटाला होता है

या कोई फ्रॉड होता है तो सबके पैसे डूब सकते हैं क्योंकि क्रिप्टो को कोई रेगुलेट नहीं कर सकता इसके ट्रांजैक्शन के बारे में भी किसी को नहीं पता होता है कि ट्रांजैक्शन कहां हुआ कितना हुआ और कैसे हुआ।

क्या क्रिप्टो एक्सचेंज वैधानिक है

क्रिप्टो एक्सचेंज पर कोई भी नियम नहीं बना है अभी तक तो यह वैधानिक नहीं है और अगर इसमें कोई फ्रॉड होता है तो मिस पर केस भी नहीं कर सकते हैं क्योंकि क्रिप्टो एक्सचेंज चलाने के लिए किसी से कोई भी परमिशन लेने की जरूरत नहीं होती है वहीं अगर देखा जाए कि हमें कोई बैंक स्टार्ट करना हो तो बैंक के लिए हमें रिजर्व बैंक से डॉक्यूमेंट और दस्तावेजों द्वारा जमा करना होता है

(crypto currency) क्रिप्टो_करेंसी पर आने वाला है नया बिल जाने ये खास बातें1..

फिर बैंक स्टार्ट होती है और अगर हमें शेयर मार्केट में जाना है तो हमें शेयर मार्केट में एक एक्सचेंज में रजिस्टर्ड करवाने के लिए वैधानिक डॉक्यूमेंट पेश करने होते हैं और म्यूचुअल फंड में भी इसी तरह कुछ होता है पर क्रिप्टो एक्सचेंज में ऐसा कुछ नहीं होता है।

क्रिप्टो एक्सचेंज में डायरेक्ट एक्सचेंज बनाया और काम करना स्टार्ट कर दिया और इसमें कोई भी दस्तावेज की जरूरत नहीं पड़ती इसमें हमें सरकार से मंजूरी भी आवश्यकता नहीं होती है डायरेक्ट एक्सचेंज बनाया या ऐप बनाया काम करना स्टार्ट।

ऐसे में आप सतर्क रहें और सुरक्षित रहें अगर आपको क्रिप्टो में पैसा लगाना ही है तो इतना पैसा लगाएं जो डूब जाए तो आपको भी कोई गम ना हो क्योंकि अगर इसमें कोई भी फ्रॉड हुआ तो इसके जिम्मेदार आप खुद होंगे और दरअसल देखा गया है कि ऐसा कई बार हुआ है।

क्या क्रिप्टो मार्केट से फ्रॉड हो सकता है

जैसा कि आपको ऊपर ही बताया गया कि क्रिप्टो मार्केट को कोई रेगुलेट नहीं करता ना इसके जन्मदाता का पता है ना ही इसके किसी रेगुलेटर का पता है तो ऐसे में अगर कोई फ्रॉड होता है तो इसकी जिम्मेदारी सिर्फ आप की होती है और फ्रॉड हो भी सकता है ऐसा देखा गया है कि कई कई सारे फ्रॉड हुए हैं क्रिप्टो में तो आप इसमें सतर्क रहें और अपने रिस्क पर ही पैसा लगाएं।

क्रिप्टो के बारे में और ज्यादा जाने

क्रिप्टो करेंसी पर नया बिल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here