गुजरात भाजपा के टिकटों पर हो सकता है फैसला: मीटिंग में पहुंचे मोदी; पूर्व CM समेत 3 बड़े नेताओं का चुनाव लड़ने से इनकार

गुजरात विधानसभा चुनाव में टिकटों के बंटवारे को लेकर दिल्ली में भाजपा सेंट्रल इलेक्शन कमेटी (CEC) की मीटिंग शुरू हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी बैठक में पहुंचे हैं। मीटिंग से पहले गुजरात से बड़ी खबर सामने आई है। पूर्व मुख्यमंत्री विजय रुपाणी, पूर्व डिप्टी CM नितिन पटेल और सीनियर विधायक भूपेंद्र सिंह चुड़ास्मा ने चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया है।

देर रात हो सकता है टिकटों का ऐलान

इधर, देर शाम दिल्ली में भाजपा सेंट्रल इलेक्शन कमेटी की मीटिंग शुरू हो गई। मीटिंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा गृह मंत्री अमित शाह, पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा, महाराष्ट्र के डिप्टी CM देवेंद्र फडणवीस समेत कमेटी के सभी सदस्य पार्टी हेड क्वार्टर पहुंच चुके हैं। देर रात तक टिकटों का ऐलान हो सकता है।

पूर्व सीएम रूपाणी और नितिन पटेल हुए दरकिनार ?

रूपाणी और नितिन पटेल ने अपने चुनाव न लड़ने के पीछे युवाओं को मौका देना वजह बताया है। लेकिन, ऐसी चर्चाएं हैं कि पार्टी ने इन दोनों नेताओं को बड़ी जिम्मेदारी देकर विधानसभा चुनाव से दूर किया है। विजय रूपाणी को पंजाब की जिम्मेदारी दी गई थी। अब नितिन पटेल को भी दूसरे राज्य में बड़ी जिम्मेदारी देकर गुजरात चुनाव से दूर रखा जाएगा।

बीजेपी नेता बी. एल संतोष गांधीनगर भी जा रहे हैं। डेमेज कंट्रोल के लिए बीजेपी कोर कमेटी की बैठक में बदलाव किया गया है। कोर कमेटी में पूर्व मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, पूर्व उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल को नियुक्त किया गया है। आरसी फल्दू, भूपेंद्र सिंह समेत छह सदस्यों को जोड़ा गया है।

रूपाणी ने सीनियर नेताओं को भेजा लेटर

गुजरात के पूर्व CM विजय रूपाणी ने पार्टी के सीनियर लीडर्स को लेटर भेजकर कहा- सभी के सहयोग से पांच साल CM के रूप में काम किया। इन चुनावों में नए कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी दी जाए। मैं चुनाव नहीं लडूंगा। पार्टी द्वारा चुने गए उम्मीदवार को जिताने के लिए काम करूंगा।

दो बार सीएम रहे विजय रूपाणी विज

रूपाणी ने 7 अगस्त 2016 को पहली बार गुजरात के मुख्यमंत्री बने थे। 2017 का चुनाव उन्हीं नेतृत्व में लड़ा गया था। तब भाजपा ने 99 सीटें ती थीं। रुपाणी ने 26 दिसंबर 2017 को दूसरी बार गुजरात के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी।

नितिन पटेल के हाथ से 4 बार निकला CM बनने का मौका गुजरात के दो बार रहे पूर्व डिप्टी CM रहे नितिन पटेल वित्त, स्वास्थ्य, कृषि, राजस्व, सिंचाई और शहरी विकास मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। उनके हाथ से चार बार गुजरात का मुख्यमंत्री बनने का मौका हाथ से निकला है। पहली बार 2014 में जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने। उस समय गुजरात CM के लिए उनका नाम चल रहा था, लेकिन पार्टी ने आनंदीबेन पटेल मुख्यमंत्री बनाया। इसके बाद 2015-16 के पाटीदार आंदोलन के बाद जब आनंदीबेन पटेल को CM पद से हटाया गया, तब भी उनका नाम उछला। लेकिन, विजय रूपाणी को मुख्यमंत्री बनाया गया। 2017 का चुनाव परिणाम उम्मीद के अनुरूप नहीं आने के बाद ऐसा लग रहा था कि अब नितिन पटेल का CM बनना तय है, लेकिन रूपाणी दोबारा CM बने। इसके 2021 में बीजेपी ने विजय रूपाणी को हटाकर भूपेंद्र पटेल को मुख्यमंत्री बना दिया। तब भी उनका नाम चर्चाओं में था।

हिंदू शब्द को गंदा बताया, अब बोले- सॉरी : कांग्रेस नेता ने पहले कहा था- गलत साबित कर दो विधायकी छोड़ दूंगा

कर्नाटक कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष सतीश जारकीहोली ने आखिरकार अपने विवादित बयान को लेकर माफी मांग ली है। दो दिन पहले उन्होंने हिंदू शब्द को फारसी भाषा का बताया था और कहा था कि इसका मतलब इतना गंदा है कि उसे जानकर लोगों को शर्म आ जाएगी।

बीते दिन उन्होंने अपने बयान पर माफी मांगने से इनकार करते हुए लोगों को चुनौती दी थी कि अगर उन्हें गलत साबित कर दिया तो वे विधायकी से इस्तीफा दे देंगे। एक ही दिन बाद ही बुधवार को उन्होंने अपने बयान के लिए माफी मांगी। उन्होंने कर्नाटक CM बसवराज बोम्मई को पत्र लिखकर अपना बयान वापस ले लिया है।

More than 400 attended Vivekananda Kendra’s Young India know Thyself orientation

विवेकानंद केंद्र के Young India Know Thyself ओरिएंटेशन में 400 से अधिक युवाओं ने भाग लिया The sixth season of Young India Know Thyself: A...

विवेकानंद केंद्र दिल्ली शाखा ने मनाया “साधना दिवस” Vivekananda Kendra Delhi Branch Celebrated “Sadha Diwas”

विवेकानंद केंद्र, कन्याकुमारी की दिल्ली शाखा ने पिछले रविवार को माननीय एकनाथ जी रानडे की जयंती को "साधना दिवस" के रूप में मनाया। श्री...

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

BEST DEALS

Most Popular