‘चुनावों में फॉर्च्यूनर में बैठने जितने आएंगे कांग्रेस के विधायक’: गुढ़ा बोले- पायलट को पहले सीएम बना देना चाहिए था; दिव्या ने किया समर्थन

‘चुनावों में सचिन पायलट समर्थक मंत्री राजेंद्र गुढ़ा ने एक बार फिर गहलोत सरकार को निशाने पर लिया है। गुढ़ा ने चुनावों में 10 से भी कम विधायक आने का दावा किया है। गुढ़ा ने यहां तक कह दिया कि सचिन पायलट को सीएम नहीं बनाया तो चुनावों में कांग्रेस के एक कार में बैठने जितने ही विधायक जीतेंगे। गुढ़ा के बयान का कांग्रेस विधायक दिव्या मदेरणा ने भी समर्थन किया। कांग्रेस सरकार के मंत्री और विधायक के इस बयान की सियासी हलकों में खूब चर्चा हो रही है। राजेंद्र गुढ़ा ने कहा- सचिन पायलट को बहुत पहले सीएम बना देना चाहिए था। पायलट को सीएम बनाने में बहुत लेट हो गए। अब भी पायलट को सीएम बना दिया जाए तो सरकार रिपीट हो सकती है। अगर सचिन पायलट को सीएम नहीं बनाया तो कांग्रेस के विधायक एक फॉर्च्यूनर में आ जाएंगे। उसमें बैठकर सारे विधायक सबसे पहले चार धाम की यात्रा करेंगे।

दिव्या ने किया गुढ़ा का समर्थन

गुढ़ा के बयान का कांग्रेस विधायक दिव्या मदेरणा ने भी समर्थन किया है। गुढ़ा के बयान वाले वीडियो को शेयर करते हुए दिव्या मदेरणा ने ट्वीट कर ब्यूरोक्रेसी पर निशाना साधा। दिव्या ने लिखा- नौकरशाही की कार्यशैली से ऐसा लग रहा है कि कांग्रेस सरकार को एक फॉर्च्यूनर में बैठाने का कोई अखंड संकल्प ले चुकी है।

गुढ़ा और दिव्या ने लंबे समय से मोर्चा खोल रखा है

राजेंद्र सिंह गुढ़ा और दिव्या मदेरणा ने 25 सितंबर से ही गहलोत कैंप के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। 25 सितंबर को कांग्रेस विधायक दल की बैठक का गहलोत कैंप के विधायकों के बहिष्कार के बाद से गुढ़ा और दिव्या हमलावर रुख अपनाए हुए हैं। गुढ़ा पायलट की पैरवी करते हुए सीएम गहलोत पर पावर सेंट्रलाइज करने का आरोप लगा चुके हैं। दिव्या मदेरणा ब्यूरोक्रेसी के कामकाज पर सवाल उठाते हुए गहलोत कैंप को घेर रही हैं।

सियासी बवाल के जिम्मेदार नेताओं के खिलाफ

एक्शन पेंडिंग मंत्री राजेंद्र गुढ़ा दो दिन पहले सीएम गहलोत पर पावर सेंट्रलाइज करने और मंत्रियों की नहीं चलने को लेकर हमला बोल चुके हैं। विधायक दल की बैठक के बहिष्कार का जिम्मेदार ठहराते हुए मंत्री शांति धारीवाल, महेश जोशी और आरटीडीसी अध्यक्ष धर्मेंद्र राठौड़ को 27 सितंबर को ही नोटिस देकर 10 दिन में जवाब मांगा था। तीनों नेता नोटिस का जवाब दे चुके हैं लेकिन अब तक कांग्रेस हाईकमान ने इस मुद्दे पर कोई एक्शन नहीं है।

अगले साल फिर यात्रा पर निकलेंगे राहुल गांधी: नॉर्थ ईस्ट से कच्छ तक हो सकती है अगली यात्रा, रोडमैप तैयार

राहुल गांधी की कन्याकुमारी से कश्मीर तक भारत जोड़ यात्रा के बीच अब अगली यात्रा का रोडमैप भी तैयार हो गया है। अगले साल राहुल गांधी पूर्वी भारत से पश्चिमी भारत की यात्रा पर निकलेंगे। भारत जोड़ो यात्रा का यह दूसरा फेज होगा।

लिए ऑब्जर्वर भेजने पर भी कोई फैसला नहीं हुआ है। पायलट कैंप को अक्टूबर में एक्शन की उम्मीद थी लेकिन कुछ नहीं हुआ। राजनीतिक जानकार इसे प्रेशर पॉलिटिक्स से भी जोड़कर देख रहे हैं। पायलट खेमे को लगता है कि अब अगर मामला ठंडा पड़ गया तो दिसंबर तक कुछ होने के आसार कम हैं। दिसंबर अंत तक तो राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा राजस्थान में रहेगी। इसके बाद बजट सत्र आ जाएगा। पायलट खेमा जल्द एक्शन चाहता है, इसलिए बयानबाजी के पीछे हताशा और प्रेशर पॉलिटिक्स दोनों फैक्टर देखे जा रहे हैं।

ये भी पढ़ें

अगले साल फिर यात्रा पर निकलेंगे राहुल गांधी: नॉर्थ ईस्ट से कच्छ तक हो सकती है अगली यात्रा, रोडमैप तैयार राहुल गांधी की कन्याकुमारी से कश्मीर तक भारत जोड़ यात्रा के बीच अब अगली यात्रा का रोडमैप भी तैयार हो गया है। अगले साल राहुल गांधी पूर्वी भारत से पश्चिमी भारत की यात्रा पर निकलेंगे। भारत जोड़ो यात्रा का यह दूसरा फेज होगा।

More than 400 attended Vivekananda Kendra’s Young India know Thyself orientation

विवेकानंद केंद्र के Young India Know Thyself ओरिएंटेशन में 400 से अधिक युवाओं ने भाग लिया The sixth season of Young India Know Thyself: A...

विवेकानंद केंद्र दिल्ली शाखा ने मनाया “साधना दिवस” Vivekananda Kendra Delhi Branch Celebrated “Sadha Diwas”

विवेकानंद केंद्र, कन्याकुमारी की दिल्ली शाखा ने पिछले रविवार को माननीय एकनाथ जी रानडे की जयंती को "साधना दिवस" के रूप में मनाया। श्री...

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

BEST DEALS

Most Popular