टीचर ने बच्चों को पीट-पीटकर छिपकली वाला खाना खिलाया: 200 स्टूडेंट्स बीमार; कहा- बैंगन है, चुपचाप खाओ

टीचर ने बच्चों को पीट-पीटकर छिपकली वाला खाना खिलाया: 200 स्टूडेंट्स बीमार; कहा- बैंगन है, चुपचाप खाओ बिहार में भागलपुर के एक स्कूल में मिड-डे मील खाने के बाद 200 बच्चे बीमार हो गए। बच्चों ने खाने में छिपकली होने की शिकायत की तो टीचर ने पहले उन्हें डांटकर कहा- छिपकली नहीं बैंगन है। जब बच्चों ने खाने से मना किया तो टीचर ने पीट-पीटकर उन्हें खाना खिलाया। पूरा घटनाक्रम जानने से पहले आप ।

पहला निवाला खाते ही बच्चों को दिखी छिपकली

मामला नवगछिया प्रखंड में मदत्तपुर गांव के मध्य विद्यालय का है। क्लास 6 की छात्रा शिवानी कुमारी ने बताया कि गुरुवार को मिड-डे-मील परोसा गया। आयुष नाम के एक छात्र की थाली से छिपकली मिली। वह जोर से चिल्लाया तो सभी बच्चे खाना छोड़ खड़े हो गए। इसकी जानकारी टीचर चितरंजन को मिली तो वह पहुंचे और थाली देखकर कहने लगे कि छिपकली नहीं बैंगन है। टीचर ने थाली से छिपकली निकाल दी और बोले चुपचाप खाना है तो खाओ नहीं तो घर जाकर खाओ।

खाना खाते ही उल्टियां होने लगीं

इसके बाद भी जब बच्चे नहीं खा रहे थे तो उन्होंने पीट-पीटकर खाना खिलाया। इसके बाद सभी को उल्टियां होने लगीं। करीब 200 बच्चे बीमार हो गए। घटना की जानकारी मिलने के बाद धीरे-धीरे परिजन स्कूल पहुंचने लगे। सभी बच्चों को नवगछिया अनुमंडल अस्पताल में भर्ती कराया गया। फिलहाल सभी बच्चे खतरे से बाहर हैं।

विवाद बढ़ा तो खाना फेंका

जैसी ही बच्चों को उल्टियां होनी शुरू हुईं तो स्कूल में मौजूद स्टाफ के हाथ-पैर फूल गए। बच्चों को इलाज के लिए ले जाने की जगह स्टाफ ने आनन-फानन में खाना फेंक दिया। खाना स्कूल के पास ही फेंका गया। ग्रामीण संजय कुमार के साथ BDO गोपाल कृष्ण जांच के लिए पहुंचे। उन्होंने खाना फेंके जाने वाली जगह का मुआयना किया तो वहां मरी हुई छिपकली भी मिली।

प्रिंसिपल ने भी कहा- छिपकली नहीं, बैंगन का डंठल था

स्कूल के प्रिंसिपल ने कहा कि खाने में छिपकली नहीं थी। मेन्यू में चावल, दाल, आलू-बैंगन की सब्जी थी। खाने में बैंगन का डंठल मिला था, छिपकली नहीं थी। घटना की सूचना पर नवगछिया अनुमंडलीय अस्पताल में SDO, SDPO, BDO समेत कई अधिकारी पहुंचे। प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी विजय कुमार झा ने बताया कि बच्चों के बीमार होने की जानकारी मिली है। किस कारण से बच्चे बीमार पड़े, इसकी जांच होगी। इसके बाद जो जवाबदेह होगा, उस पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

प्रिंसिपल सस्पेंड, रसोइया बर्खास्त,

शिक्षकों का तबादला इस घटना के बाद ग्रामीणों ने स्कूल के बाहर प्रदर्शन शुरू कर दिया। कुछ ग्रामीण कार्रवाई की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए। इधर, ग्रामीणों की मांग पर नवगछिया BEO विजय कुमार झा ने रसोइए को बर्खास्त और प्रिंसिपल को सस्पेंड कर दिया है। स्कूल के सभी शिक्षकों का तबादला दूसरे स्कूल में किया जा रहा है।

ये खबर भी पढ़ें…

MDM खाने के बाद स्कूल के 50 बच्चे बीमार: सभी को अस्पताल में कराया गया भर्ती, भोजन से पहले दवा भी दी गई थी

भोजपुर में मिड डे मिल का भोजन करने से उत्क्रमित मध्य विद्यालय (हरिजन टोली) में 50 बच्चे बीमार हो गए। सभी बच्चों ने सोमवार को स्कूल में खाना खाया था। इसके बाद रात होते ही एक दो बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी। मंगलवार की सुबह से ही एक के बाद एक 50 बच्चे बीमार पड़ गए। सभी को इलाज के लिए पीरो रेफरल अस्पताल ले जाया गया, जहां उनका इलाज किया गया। मामला पीरो प्रखंड के हसन बाजार ।

भोजन से पहले दवा खाई थी

बच्चों ने मिड-डे-मिल खाने के पहले अल्बेंडाजोल नामक कीड़े की दवा खाई थी। इसके बाद सभी बच्चों ने स्कूल ही मिड-डे-मील भोजन किया था। उन्हें पेट दर्द, उल्टी एवं चक्कर की शिकायत होने लगी। सभी बच्चों को इलाज के लिए पीरो रेफरल अस्पताल ले जाया गया, जहां उनका इलाज कराया जा रहा है। घटना की सूचना पाकर पीरो प्रखंड के सभी सरकारी प्राथमिक व मध्य विद्यालयों के एडीएम आपूर्ति की जांच की गई।

More than 400 attended Vivekananda Kendra’s Young India know Thyself orientation

विवेकानंद केंद्र के Young India Know Thyself ओरिएंटेशन में 400 से अधिक युवाओं ने भाग लिया The sixth season of Young India Know Thyself: A...

विवेकानंद केंद्र दिल्ली शाखा ने मनाया “साधना दिवस” Vivekananda Kendra Delhi Branch Celebrated “Sadha Diwas”

विवेकानंद केंद्र, कन्याकुमारी की दिल्ली शाखा ने पिछले रविवार को माननीय एकनाथ जी रानडे की जयंती को "साधना दिवस" के रूप में मनाया। श्री...

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

BEST DEALS

Most Popular