नाबालिग ने यू-ट्यूब देख घर पर बच्ची को जन्म दिया: फिर मार डाला, प्रेग्नेंसी छिपाने के लिए मां से बोली- हेल्थ इश्यू है

नागपुर के अंबाझरी में एक प्रेग्नेंट नाबालिग ने यू-ट्यूब वीडियो देखकर खुद ही अपनी डिलीवरी की। किसी को इस बात का पता न चले इसलिए पैदा होते ही नवजात बच्ची का गला दबाकर मार डाला। 15 साल की लड़की ने नवजात की लाश अपने ही घर में एक बक्से में छिपाकर रख दी।

इंस्टाग्राम पर दोस्त बने लडके ने किया था यौन शोषण

घटना 2 मार्च की है, लेकिन इसका पता रविवार को तब चला, जब लड़की की मां घर लौटी। लड़की ने मां को पूरी कहानी सुनाई। मां उसे हॉस्पिटल लेकर गई। नवजात की लाश पुलिस ने पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दी है। पुलिस ने आरोपी पर पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद नाबालिग लड़की पर हत्या का मामला दर्ज किया जाएगा।

सोशल मीडिया पर लड़के से हुई दोस्ती, उसी ने यौन शोषण किया

9वीं क्लास में पढ़ने वाली नाबालिग ने पुलिस को बताया कि जिस लड़के ने उसका यौन शोषण किया, वह उससे इंस्टाग्राम के जरिए मिली थी प्रेग्नेंसी का पता चलने पर उसने घरवालों से ये बात छिपाए रखी। इतना ही नहीं जब उसकी मां ने बढ़े हुए पेट के बारे में पूछा तो उसने कहा कि उसे कुछ हेल्थ इश्यू हैं। .

घंटों फोन पर बिताती थी, इसलिए मां ने फोन तोड़ दिया था

लड़की ने ठाकुर नाम के अकाउंट पर इस लड़के से चैटिंग शुरू की। वह घंटों फोन पर बात करती थी । इसलिए जब मां को पता चला कि उनकी बेटी फोन पर अनजान लोगों से बात करती है तो कुछ हफ्ते पहले उसने फोन तोड़ दिया था।

हालांकि लड़की इसके बाद अपनी मां के फोन से बात करती लेकिन चैट हिस्ट्री और डाउनलोड किए गए फोटो-वीडियो डिलीट कर देती थी। इसलिए मां को भी इसकी खबर नहीं हो पाती थी।

नाबालिग, आरोपी युवक का पूरा नाम पता तक नहीं जानती थी। ठाकुर नाम का यह शख्स लड़की से अक्सर मैसेंजर और वॉइस कॉल पर बात करता था, इसलिए पुलिस के पास ट्रेस करने के लिए उसका नंबर भी नहीं है।

मां को गुमराह करने की कोशिश की लड़की

लड़की की मां मॉल में काम करती है। जब वह घर लौटी तो घर में कई जगह खून के निशान देखकर हैरान रह गई। नवजात को मारने के बाद लड़की ने मां को ये कहकर गुमराह करने की कोशिश की कि उसके पीरियड्स चल रहे हैं। लेकिन बाद में उसने सारा सच उगल दिया। मां ही उसे हॉस्पिटल लेकर गई। जहां हॉस्पिटल मैनेजमेंट ने पुलिस को खबर दी। लड़की से पूछताछ अभी बाकी है।

इसे भी पड़े 👉

नैनवां में नाबालिग ने दिया बच्चे को जन्म: तबीयत बिगड़ने पर जिला अस्पताल रेफर, बाल कल्याण समिति देखरेख में इलाज

बूंदी के नैनवां थाना क्षेत्र इलाके में गुरुवार रात एक15 वर्षीय नाबालिग लड़की ने बच्चे को जन्म दिया है।नाबालिग की तबीयत बिगड़ने पर बूंदी जिला अस्पतालरेफर किया गया, जहां बाल कल्याण समिति की देखरेखमें मां और नवजात का इलाज चल रहा है।

नैनवां में नाबालिग ने दिया बच्चे को जन्म:

बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष सीमा पोद्दार ने बताया कि नैनवां थानाधिकारी ने सूचना दी की एक 15 वर्षीय अविवाहित नाबालिग को गुरुवार रात 9 बजे पेट दर्द की शिकायत पर नैनवां अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उसने एक शिशु को जन्म दिया। नाबालिग की तबीयत बिगड़ने पर नैनवां उप जिला अस्पताल से बूंदी जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया है। जहां बालिका और नवजात जिला सामान्य अस्पताल में भर्ती है। डॉक्टरों द्वारा स्वास्थ्य की देखरेख की जा रही है। आगे की कानूनी प्रक्रिया जारी है।

एएसआई राजेंद्र सिंह ने बताया कि डॉक्टर शाहिद ने जानकारी दी थी कि एक नाबालिक लड़की पेट दर्द की शिकायत लेकर हॉस्पिटल में आई थी, जिसने रात 9 बजे बाद एक शिशु को जन्म दिया। नाबालिक लड़की की तबीयत बिगड़ने पर उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया, जहां उसका डॉक्टरों और महिला बाल विकास समिति अध्यक्ष सीमा पोदार की देखरेख में इलाज चल रहा है।

Swami Vivekananda’s teaching inspires youth to work for nation-building – Nikhil Yadav 

Swami Vivekananda's teaching inspires youth to work for nation-building - Nikhil Yadav 

माटीकला से जुड़े 3 शिल्पकार को किया गया सम्मानित

माटीकला से जुड़े शिल्पकारों के उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन करने के लिए शुक्रवार 24 मार्च को सम्मानित किया गया। इसमें पहला पुरस्कार जिले के हस्त शिल्पकार सतीश चंद्र को , दिया गया। दूसरा पुरस्कार सिद्धार्थनगर के अवधेश कुमार को जबकि तीसरा पुरस्कार संत कबीर नगर के राजेंद्र कुमार को दिया गया।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

BEST DEALS

Most Popular