भारत मे किसान जिसको फांसी का फंदा बता रहे है सरकार उसको कृषि क्षेत्र में सबसे बड़ा रिफॉर्म कह रही है ।

भारत मे किसान जिसको फांसी का फंदा बता रहे है सरकार उसको कृषि क्षेत्र में सबसे बड़ा रिफॉर्म कह रही है ।

वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दु की सरकार इसी रिफॉर्म के नाम पर, विकास के नाम पर लगातार देश की सम्पत्तियों को बेच रही है ।

कोई राष्ट्रवाद के नाम पर हमें बेच देता है और ज्यादातर लोग उसका विरोध करने के बजाय राष्ट्रवादी बन कर राष्ट्र की बिकती सम्पत्तियों का समर्थन करने लग जाते है ।

किसानों व मजदूरों के आन्दोलन संविधानिक होने चाहिये😘 क्या नेताओं के भाषण,रेलियाँ संविधानिक होती हे?क्या सभी सरकारी काम-काज,घोषणाएं, आदेश संविधानिक होते हें?संविधान के नाम पर मेहनतकश लोगों को निचोड़ा जा रहा हे।

काले कानून का विरोध करने पर किसानों पर लाठीचार्ज। ये मेंस्ट्रीम मीडिया नहीं दिखाएगा।⁉️
👉 नए कृषि अध्यादेश के कारण पूरे देश के किसानों की खेती छीनने वाली है।

मत मारो लाठियों से मुझे,मैं पहले से दुखी इंसान हूँ,मेरी मौत की वजह यही है कि मैं पेशे से एक किसान हूँ।हरियाणा सरकार मुर्दाबाद।

दरअसल देश की जनता के पास #JuryCourt व #JuryPanchayat जैसे मजबूत कानून नही होने का खामियाजा ही यह भ्रष्ट नेता राष्ट्र को बेचने का दुःसाहस करते है ।

अतः जिम्मेदार लोगों को नेता भक्ति करने के बजाय जुरीकोर्ट व जूरी पंचायत जैसे कानून की मांग खड़ी कर देश को मजबूत बनाने में सहयोग करना चाहिए ।

Related posts

Leave a Comment