मुंबई में नौकरी छोड़ी, गोबर से ही 3 लाख कमाई: सबसे महंगे गेहूं की खेती कर रहे; बादाम जितने कीमती शकरकंद चिप्स

मुंबई में नौकरी छोड़ी, गोबर से ही 3 लाख कमाई: सबसे महंगे गेहूं की खेती कर रहे; बादाम जितने कीमती शकरकंद चिप्स महज 15 साल की उम्र में सिर से पिता का साया उठ गया। दुनिया को देखना और समझना शुरू ही किया था कि कंधों पर परिवार का बोझ आ गया। छोटी-मोटी नौकरी के लिए चेन्नई, हैदराबाद और मुंबई की खाक छानी। आखिरकार गांव का रुख किया तो रावल चंद ने खेतों की और खेतों ने उनकी किस्मत बदल दी | म्हारे देस की खेती में आज बात जोधपुर के किसान रावल चंद पंचारिया की ।

जोधपुर शहर से करीब 100 किलोमीटर दूर है लोहावट तहसील, जिसमें छोटा सा गांव है नौसर । इस गांव में आप किसी से भी सफेद शकरकंद वाले किसान के बारे में पूछेंगे तो वह आपको रावल चंद का पता बता देगा | जब हम रावल चंद के पास पहुंचे तो उनके संघर्ष की कहानी सुनकर दंग रह गए।

छोटी उम्र में कंधों पर आ गया परिवार का बोझ

रावल चंद ने बताया कि उनके पिता घेवर चंद जोधपुर में ही एक फैक्ट्री में सुपरवाइजर का काम करते थे। 1998 की बात है। एक दिन अचानक पिताजी को अटैक आ गया। महज 42 साल की उम्र में उनका निधन हो गया। पिता की मौत के बाद परिवार की जिम्मेदारियां मेरे कंधों पर आ गईं। तब गांव के पास ही भीकमकोर की सरकारी स्कूल में क्लास 9वीं में पढ़ रहा था। छोटा भाई भी पढ़ रहा था। मैंने पढ़ाई छोड़ी और नौकरी की तलाश में भटकने लगा।

दुकानों पर सेल्समैन की जॉब की, छोड़कर गांव आ गए

रावल चंद ने बताया- मैं जोधपुर के गुलाब सागर में एक स्टेशनरी की दुकान पर सेल्समैन का काम करने लगा। करीब डेढ़ साल यही करता रहा। इसके बाद चेन्नई और मुंबई में कपड़े की दुकानों पर सेल्समैन का काम किया। 19-20 साल की उम्र में ही बड़ों जैसी समझदारी आ गई थी। पैसा बचाने की बहुत कोशिश करता, लेकिन तीन- न-चार हजार की नौकरी में कुछ नहीं बचता था । लगने लगा कि नौकरी करके कुछ भी हासिल नहीं कर पाऊंगा। 2002 में मुंबई से 5 हजार की नौकरी छोड़कर अपने गांव नौसर लौट आया।

विचार आया- खेतों को कौन संभालेगा

गांव में आकर खेतों की हालत देखी। खेत बंजर हो चुके थे। फिर गांव में ही किराए की दुकान लेकर फैंसी, रेडीमेड सामान और स्टेशनरी की दुकान शुरू कर दी। दुकान चल निकली। 2005 में अपने घर के बाहर ही पक्की दुकान बना ली। अब किराने का काम भी करने लगा था। साल 2014 तक यही चलता रहा। अब घर चलाने की चिंता नहीं थी। सब ठीक था। खेती करने का मन शुरू से था। एक दिन बस यूं ही विचार आया कि नौकरी – दुकानदारी कब तक करते रहेंगे, खेतों को कौन संभालेगा। किसान के लिए जमीन बहुत मायने रखती है। अब खेतों की सुध लेने का वक्त आ गया था। दुकान की जिम्मेदारी छोटे भाई खींवराज को सौंपकर मैं खेती करने लगा। हमारी 30 बीघा जमीन थी। खेतों में मेहनत की। गोबर डाला। घर के लिए सब्जियां, गेहूं, बाजरा, मिर्च और धनिया उगाना शुरू किया। जैविक खाद के इस्तेमाल से खेतों का बंजरपन जाता रहा।

अब 110 बीघा में खेती कर रहा हूं

पंचारिया ने बताया कि आस-पड़ोस के किसान खेत में रसायन व केमिकल का उपयोग करते थे। उस उपज को बाजार में बेच देते और खुद के परिवार के लिए मुझसे जैविक उत्पाद खरीदते थे। इसके बाद डिमांड बढ़ी तो फसलों का रकबा बढ़ा दिया। धीरे-धीरे ग्राहक जुड़ने लगे। पहले तहसील और जिला स्तर पर डिमांड रही। अब इतनी मांग है कि किराए की 80 बीघा जमीन और लेकर कुल 110 बीघा में खेती कर रहा हूं।

माइक पोम्पिओ का दावा‌ : क्या चीन के कारण QUAD में शामिल हुआ था भारत 2023

माइक पोम्पिओ ने अपनी किताब में बताया है कि अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का प्रशासन किस तरह QUAD में भारत को शामिल करने में कामयाब रहा।

Private school में 2 बहनों के पढ़ने पर एक की फीस भरेगी राज्य सरकार

Private school में राज्य सरकार जल्द ही दो सगी बहनों के पढ़ने पर एक की फीस योगी सरकार भरेगी। शासन ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की इस घोषणा को लागू करने की पूरी तैयारी कर ली है। जल्द ही प्रदेश में स्मार्ट शिक्षा व्यवस्था लागू होने वाली है। इसके तहत जूनियर और माध्यमिक स्कूलों के छात्रों को स्मार्ट क्लास के तहत एजुकेशन दी जाएगी।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

BEST DEALS

Most Popular