सदानंद शाही होंगे शंकराचार्य यूनिवर्सिटी के कुलपति: गुरु घासीदास विश्वविद्यालय का कुलपति नियुक्त किये जाने पर हुआ था बवाल, अब निजी विश्वविद्यालय में लौटे

सदानंद शाही होंगे शंकराचार्य यूनिवर्सिटी के कुलपति: गुरु घासीदास विश्वविद्यालय का कुलपति नियुक्त किये जाने पर हुआ था बवाल, अब निजी विश्वविद्यालय में लौटे बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में हिन्दी विभाग के प्रोफेसर रहे डॉ. सदानंद शाही भिलाई स्थित श्री शंकराचार्य प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी के कुलपति होंगे। राज्यपाल अनुसूईया उइके ने सोमवार को उनकी नियुक्ति के आदेश पर हस्ताक्षर कर दिए। प्रोफेसर शाही को 2017 में बिलासपुर के गुरु घासीदास विश्वविद्यालय का भी कुलपति नियुक्त किया गया था। विवाद के बाद वह आदेश रद्द हो गया था।

प्रो. सदानंद शाही की नियुक्ति पर 2017 में बड़ा बवाल हुआ था। बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के ही एक पूर्व छात्र ने प्रो. शाही के खिलाफ राजभवन को शिकायत भेजी थी। इसमें कहा गया था कि वे कुलपति नियुक्त होने की योग्यता नहीं रखते हैं। उसके आधार पर राजभवन ने एक तीन सदस्यीय समिति बनाकर जांच सौंपी थी। एनएसयूआई और कांग्रेस ने इसे साजिश हुए प्रो. शाही के समर्थन में कैंपस में प्रदर्शन तक किया था। बाद में जांच समिति की रिपोर्ट के आधार पर जुलाई 2017 में राजभवन ने प्रो. शाही की नियुक्ति रद्द कर दिया था। प्रो. सदानदं शाही BHU में भोजपुरी अध्ययन केंद्र के संस्थापक और संयोजक हैं। उन्होंने हिन्दी की भक्ति काव्य परंपरा पर विस्तृत अध्ययन-लेखन किया है। संत कबीरदास, रैदास और पल्टूदास पर उनका काम बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। उन्होंने साखी, भोजपुरी जनपद, कर्मभूमि और दीक्षा नाम की पत्रिकाओं का संपादन भी किया है। वह साऊथ एशिया इंस्टिट्यूट हाईडेलबर्ग जर्मनी में फेलो रहे हैं और इटली के तूरिनो यूनिवर्सिटी में व्याख्यान व कविता पाठ कर चुके हैं।

जॉब नहीं मिलने से निराश इंजीनियर ने दी जान: माता-पिता सुबह लौटे तो फंदे पर लटका मिला शव

ग्वालियर में एक B.TECH इंजीनियर ने फांसी लगाकर जान दे दी। बताया जा रहा है कि डिग्री पूरी होने के बाद से वह लगातार मल्टी नेशनल कंपनियों में जॉब के लिए अप्लाई कर रहा था। बार-बार इंटरव्यू में आकर बात अटक जाती थी। इसे लेकर वह डिप्रेशन में जा रहा था।

मामला ग्वालियर के गोला के मंदिर स्थित प्रगति विहार कॉलोनी का है। यहां रहने वाले पुष्पेंद्र (23) उर्फ शुभम शर्मा ने रविवार को घर पर फांसी लगा ली। घटना के समय उसके पिता जयप्रकाश शर्मा और माता रेखा शादी समारोह में शामिल होने भिंड गए थे। सोमवार सुबह जब वे लौटे तो कमरे के अंदर बेटे को फंदे पर लटका देखा।

बार-बार रिजेक्शन से डिप्रेशन में आ गया

शुभम ने ग्वालियर के एक निजी इंजीनियरिंग कॉलेज से B.TECH की थी। डिग्री पूरी होने के बाद से ही वह अच्छी जॉब की तलाश कर रहा था। कुछ जगह से मिले रिजेक्शन के कारण वह डिप्रेशन में आ गया था।

माता-पिता को अहसास नहीं होने दिया मन में क्या?

शुभम के माता-पिता एक दिन पहले जब शादी में जाने के लिए घर से निकल रहे थे, तो बेटे ने उन्हें अहसास भी नहीं होने दिया कि उसके मन में क्या चल रहा है। मां-पिता जानते भी नहीं थे कि बेटे से यह उनकी आखिरी मुलाकात है। उनका कहना है कि लग ही नहीं रहा था कि वह असामान्य है। रोज की तरह बात कर रहा था।

पुलिस ने कहा- डिप्रेशन की बात सामने आई

गोला का मंदिर थाना प्रभारी धर्मेंद्र यादव ने बताया कि फोन पर सूचना मिली थी कि एक युवक ने अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को निगरानी में लेकर खुदकुशी के कारणों की पड़ताल शुरू कर दी है। जॉब न मिलने के कारण इंजीनियर डिप्रेशन में होने की बात पता चली है।

73 सालों में पहली बार मनाया जाएगा Supreme Court का स्थापना दिवस

शनिवार यानी आज 4 फरवरी को पहली बार भारत के सर्वोच्च न्यायालय (Supreme Court) का स्थापना दिवस मनाया जाएगा।इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में सिंगापुर के न्यायाधीश जस्टिस सुंदरेश मेनन को बुलाया गया है।

मशहूर प्लेबैक सिंगर वाणी जयराम का निधन, हाल ही में पद्म भूषण से किया गया था सम्मानित

मशहूर प्लेबैक सिंगर वाणी जयराम का निधन, हाल ही में पद्म भूषण से किया गया था सम्मानित

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

BEST DEALS

Most Popular