हिमाचल में शुरुआती रुझानों में भाजपा आगे: पोस्टल बैलेट की गिनती में भाजपा को 34 और कांग्रेस को 31 सीटों पर बढ़त

हिमाचल में शुरुआती रुझानों में भाजपा आगे: पोस्टल बैलेट की गिनती में भाजपा को 34 और कांग्रेस को 31 सीटों पर बढ़त हिमाचल प्रदेश की 68 विधानसभा सीटों के लिए मतगणना शुरू हो गई है। पोस्टल बैलेट के शुरुआती रुझानों में कांग्रेस और भाजपा में कांटे की टक्कर है। भाजपा 34 सीटों पर आगे चल रही है तो कांग्रेस को 31 सीटों पर बढ़त मिली है। वहीं, तीन सीटों में निर्दलीय आगे चल रहे हैं। AAP अभी खाता नहीं खोल पाई है। प्रदेश में 37 साल पुरानी परंपरा कायम रहेगी या नया इतिहास बनेगा, ये आज दोपहर तक साफ हो जाएगा। हिमाचल में 12 नवंबर को वोटिंग हुई थी। राज्य में 1985 के बाद कोई पार्टी अपनी सरकार रिपीट नहीं कर पाई है। तब कांग्रेस की सरकार थी और मुख्यमंत्री थे वीरभद्र सिंह । इस बार सबकी नजर इसी बात पर है कि क्या पहाड़ पर सरकार बदलने का ट्रेंड जारी रहेगा या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चेहरे के सहारे भाजपा इस रिवाज को बदलने में कामयाब रहेगी।

अपडेट्स…..

• हॉट सीट हमीरपुर से निर्दलीय कैंडिडेट आगे चल रहे हैं।

• भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के गृहजिले की चार में से 2 सीटों पर BJP और दो सीटों पर कांग्रेस आगे है।

• हिमाचल में 9.25 बजे तक वोट शेयर: कांग्रेस-44.7% वोट, BJP 40.8% और अन्य -12.1%

• CM जयराम ठाकुर के गृह जिले की 10 में से 7 सीटों पर BJP आगे है। यहां 3 सीटों पर कांग्रेस उम्मीदवार आगे चल रहे हैं।

• शुरुआती रुझान में भाजपा को बहुमत मिलने के बाद हिमाचल BJP अध्यक्ष सुरेश कश्यप प्रदेश पार्टी कार्यालय पहुंच गए हैं।

शुरुआती रुझान के बाद कांग्रेस के टेंट सूने

पोलिंग के बाद कांग्रेस ने EVM में गड़बड़ी की आशंका ताते हुई कई जगह स्ट्रॉन्ग रूम के बाहर टेंट लगाए थे। स्ट्रॉन्ग रूम से EVM काउंटिंग सेंटरों पर ले जाए जाने के बाद कांग्रेस के यह तंबू खाली हो गए। बिलासपुर जिले की घुमारवीं सीट की EVM घुमारवीं कॉलेज में रखी गई थी। गुरुवार सुबह यह टेंट खाली नजर आया।

चुनाव को लेकर नेताओं के बयान….

• हिमाचल में नतीजों से पहले ही पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की पत्नी और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रतिभा वीरभद्र सिंह ने सीएम पद का दावा किया। उन्होंने कहा- राज्य के लोग चाहते हैं कि वीरभद्र परिवार का कोई व्यक्ति राज्य के विकास की विरासत को आगे बढ़ाए।

11 में से 7 मंत्री कांटे के मुकाबले में फंसे

हिमाचल प्रदेश में हर बार 45 से 75% मंत्रियों के चुनाव हारने का भी ट्रेंड रहा है। इस बार भी जयराम ठाकुर के 11 में से 7 मंत्री कांटे के मुकाबले में फंसे हैं। दो मंत्रियों की तो सीट भी बदली गई। इनमें शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज को शिमला शहरी सीट की जगह कसुम्पटी से और वनमंत्री राकेश पठानिया को कांगड़ा जिले की नूरपुर सीट की जगह फतेहपुर से उतारा गया।

पिछले 4 चुनाव में करीब आधे मंत्री हारे

पिछले चार चुनाव का रिकॉर्ड देखें तो हर बार करीब आधे या उससे ज्यादा मंत्री चुनाव हार गए हैं। 2017 के चुनाव में कांग्रेस के CM वीरभद्र सिंह कैबिनेट के 11 में से 5 मंत्री चुनाव हार गए। 2012 में BJP सरकार CM प्रेम कुमार धूमल के 10 में से 4 मंत्री चुनाव हार गए। 2007 में वीरभद्र सिंह ने एक साल पहले विधानसभा चुनाव कराए लेकिन उनकी कैबिनेट के 10 में से 6 मंत्री अपनी सीट हार गए। इसी तरह 2003 में BJP के CM प्रेम कुमार धूमल की कैबिनेट के 11 में से 6 मंत्री जीत नहीं सके।

2017 में भाजपा के CM फेस धूमल अपने ही चेले से हारे

2017 के चुनाव में BJP ने 68 में से 44 सीटें जीतकर स्पष्ट बहुमत हासिल किया, लेकिन उसके मुख्यमंत्री फेस प्रेम कुमार धूमल खुद हार गए। हमीरपुर जिले की सुजानपुर सीट पर धूमल को उन्हीं के ‘हनुमान’ कहे जाने वाले राजेंद्र सिंह राणा ने 1 हजार 919 वोट से हराया। चुनाव से पहले भाजपा छोड़कर कांग्रेस जॉइन करने वाले राणा का वह पहला विधानसभा चुनाव था। धूमल तब अपनी परंपरागत हमीरपुर सीट छोड़कर सुजानपुर से चुनाव लड़ने उतरे थे। 1984 के बाद धूमल की किसी चुनाव में यह पहली हार थी। धूमल केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर के पिता हैं।

माइक पोम्पिओ का दावा‌ : क्या चीन के कारण QUAD में शामिल हुआ था भारत 2023

माइक पोम्पिओ ने अपनी किताब में बताया है कि अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का प्रशासन किस तरह QUAD में भारत को शामिल करने में कामयाब रहा।

Private school में 2 बहनों के पढ़ने पर एक की फीस भरेगी राज्य सरकार

Private school में राज्य सरकार जल्द ही दो सगी बहनों के पढ़ने पर एक की फीस योगी सरकार भरेगी। शासन ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की इस घोषणा को लागू करने की पूरी तैयारी कर ली है। जल्द ही प्रदेश में स्मार्ट शिक्षा व्यवस्था लागू होने वाली है। इसके तहत जूनियर और माध्यमिक स्कूलों के छात्रों को स्मार्ट क्लास के तहत एजुकेशन दी जाएगी।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

BEST DEALS

Most Popular