कंप्यूटर नेटवर्क का वर्गीकरण ( Classification of Computer network)

Classification of Computer network

भौगोलिक दूरी के आधार पर कंप्यूटर नेटवर्किंग(network) का वर्गीकरण किया जाता है। यह वर्गीकरण निम्नलिखित प्रकार का है।लोकल एरिया नेटवर्क के द्वारा सैकड़ों नो़डो को नेटवर्क से जोड़ा जा सकता है। यह नोट कंप्यूटर, टर्मिनल, प्रिंटर, डिस्क ड्राइव युक्तियां हो सकती हैं, लेकिन लोकल एरिया नेटवर्क का प्रसार क्षेत्र अत्यधिक सीमित, लगभग 1 किलोमीटर की सीमा में होता है। लोकल एरिया नेटवर्क का प्रयोग छोटे क्षेत्रों के लिए; जैसे- कार्यालय, कंपनी, विश्वविद्यालय, बैंक आदि की अपनी बिल्डिंग के लिए किया जाता है। ऐसे संस्थानों के अपने लोकल एरिया नेटवर्क होते हैं, जिनके द्वारा भी अपनी बिल्डिंग में रखे हुए कंप्यूटरों, टर्मिनलों, महंगी कंप्यूटर युक्तियों; जैसे- उच्च क्षमता का प्रिंटर, चुंबकीय डिस्क ड्राइव, स्कैनर आदि को परस्पर जोड़ते हैं।

1. लोकल एरिया नेटवर्क ( LAN )

लोकल एरिया नेटवर्क बनाने के लिए स्टार अथवा बस टोपोलॉजी का प्रयोग किया जाता है। लोकल एरिया नेटवर्क के लिए संचार माध्यम के रूप में मुख्यत: कोएक्सियल केबल या फाइबर ऑप्टिकल का प्रयोग किया जाता है। लोकल एरिया नेटवर्क से किसी भी प्रकार की कंप्यूटर, टर्मिनल एवं युक्ति को जोड़ा जा सकता है। लोकल एरिया नेटवर्क का प्रयोग मुख्यतः दो कार्यों के लिए होता है- पहला यह कि इसके द्वारा नेटवर्क से जुड़े कंप्यूटर आपस में डाटा का आदान प्रदान कर सकते हैैं। दूसरा यह कि इसके द्वारा महंगे कंप्यूटर संसाधनों एवं डेटाबेस का सांझा प्रयोग हो सकता है। लोकल एरिया नेटवर्क का सर्वाधिक एवं प्रचलित उदाहरण इथरनेट है।

(network)

लोकल एरिया नेटवर्क की विशेषताएं एवं कमियां :

लोकल एरिया नेटवर्क में डेटा संचरण गति बहुत तीव्र होती है। इसमें डेटा संचरण टेलीफोन लाइनों की अपेक्षा कोएक्सियल केबल अथवा फाइबर ऑप्टिक्स का प्रयोग किया जाता है। ऑप्टिक्स अत्यधिक तेज गति से ( MBPS ) डाटा संचालित करता है।

लोकल एरिया नेटवर्क का प्रसार क्षेत्र छोटा होता है। यह कंपनी का अपना नेटवर्क होता हैं। आता है इस पर आने वाला व्यय अन्य नेटवर्क की अपेक्षा बहुत कम होता है। संस्थान विशेष का व्यक्तिगत नेटवर्क होने के कारण इस पर संचरण संबंधित न के बराबर होती हैं तथा डाटा के चोरी होने का डर भी नहीं होता है। लोकल एरिया नेटवर्क की व्यवस्था करना, आवश्यकता पड़ने पर रिपेयरिंग करना तथा उसे व्यवस्थित रखना सरल होता है क्योंकि गलती एक क्षेत्र में होती

computer से लाभ और हनि जाने (merit and demerits of computer)

हैं। अतः उन्हें खोजना एवं ठीक करना अत्यधिक सरल होता है।

2. मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क(network) ( MAN )

व्यक्तिगत एवं सार्वजनिक नेटवर्क, जो किसी महानगर की इमारतों को आपस में जोड़ता है, ‘मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क’ कहा जाता है। मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क में कोएक्सियल केबल अथवा माइक्रोवेव सर्किट द्वारा प्रसारण किया जाता है। केबल टीवी प्रसारण मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क का उदाहरण है, जिसे पूरे शहर में कोएक्सियल केवल का जाल फैलाकर केबल टीवी प्रसारित किया जाता है।

मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क (network)की विशेषताएं एवं कमियां:

एक ही शहर में स्थित संस्थान के अनेक शाखाओं को मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क के ही माध्यम से जोड़ा जाता है। अनेक लोकल एरिया नेटवर्क को आपस में जोड़ कर एक मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क का रूप दिया जा सकता है। मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क में टेलीफोन लाइनों के द्वारा भी शहर के एक मुख्य सरवर से अनेक कंप्यूटर जोड़े जा सकते हैं।

मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क की डेटा संचरण गति लोकल एरिया नेटवर्क की अपेक्षा कम होती है। इसे व्यवस्थित करने में अधिक व्यय होता है। मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क द्वारा लोकल एरिया नेटवर्क की अपेक्षा अधिक नोट रखी जा सकती है। बड़े क्षेत्र में फैला होने के कारण नेटवर्क की देखरेख करना, उसे व्यवस्थित रखना लोकल एरिया नेटवर्क की अपेक्षा जटिल होता है। मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क को बनाने के लिए स्टार टोपोलॉजी अथवा मिली -जुली (hybrid ) टोपोलॉजी का अनुसरण किया जाता है।

3. वाइड एरिया नेटवर्क ( WAN )

इसका प्रसार क्षेत्र मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क से अधिक बड़ा होता है। इसकी प्रसारण सीमा में एक शहर से लेकर पूरा विश्व आता है। ‘इंटरनेट’ एक ऐसा ही वाइड एरिया नेटवर्क है जो समस्त विश्व के कंप्यूटरों को जोड़ सकता है। वाइड एरिया नेटवर्क के द्वारा एक साथ अनेक संस्थाएं चाहे वह एक ही देश में हो या पूरे विश्व में फैली हो, डाटा का आदान प्रदान कर सकती हैं। वाइड एरिया नेटवर्क के लिए संचार माध्यम के रूप में अनेक माध्यम प्रयोग हो सकते हैं; जैसे- माइक्रोवेव सर्किट, उपग्रह, टेलीफोन लाइन आदि।

वाइड एरिया नेटवर्क में कुछ ऐसे शक्तिशाली कंप्यूटर जुड़े होते हैं जो रिसीवर तथा ट्रांसमीटर के माध्यम से यह कैसे कड़ी का कार्य करते हैं जिनके द्वारा डाटा को एमप्लीफाई करके, उसे त्रुटि हीन बनाकर तीव्र गति से आगे प्रसारित किया जा सकता है। माइक्रोवेव रिपीटर, सेटेलाइट ऐसे ही कड़ी है।

ऐसे कंप्यूटर जो ट्रांसमीटर रिसीवर के मध्य उपस्थित रहकर डाटा संचरण प्रक्रिया में सुधार लाने का कार्य करते हैं, उन्हें स्विचिंग कंट्रोलिंग नोट का जाता है। एक नेटवर्क में अनेक सिचिंग नोट संचार लाइनों के द्वारा जुड़े रहते हैं। इनका कार्य डेटा को एक नोट से दूसरे नोट तक पहुंचाते हुए अंततः रिसीवर तक पहुंचाना होता है। डाटा किस मार्ग से संचारित करना है, इसका निर्णय भी इनके द्वारा ही किया जाता है।

सूचना-प्रौद्योगिकी (information technology )

Arpanet एक ऐसा ही वाइड एरिया नेटवर्क है जिसे एडवांस रिसर्च प्रोजेक्ट एजेंसी ऑफ U.S. डिफेंस डिपार्टमेंट ने बनाया था। इस नेटवर्क के द्वारा यूरोप और अमेरिका के लगभग 40 विश्वविद्यालयों के विभिन्न प्रकार की कंप्यूटरों को आपस में जोड़ा गया था। भारत में CMC इंडिया ने Indonet नामक नेटवर्क बनाया है जो महानगरों में स्थित कंप्यूटरों को आपस में जोड़ता है।

वाइड एरिया नेटवर्क की विशेषताएं और कमियां:

वाइड एरिया नेटवर्क की सबसे प्रमुख विशेषता इसका विस्तृत प्रसार क्षेत्र है। इसके द्वारा विश्व भर में पल भर में डाटा प्रसारित किया जा सकता है। वाइड एरिया नेटवर्क क्योंकि अत्यधिक विशाल होता है। अतः इसकी डाटा संचरण गति अधिक नहीं होती है। इसके अतिरिक्त एक वाइड एरिया नेटवर्क स्थापित करना अत्यधिक महंगा कार्य है जिसके लिए महंगे और असीम ईसंचार माध्यमों की आवश्यकता होती है। वाइड एरिया नेटवर्क के विस्तृत प्रसार क्षेत्र के कारण इसकी देखरेख करना कठिन कार्य है। नेटवर्क का कोई भाग फेल हो जाने की स्थिति में त्रुटि वाले हिस्से का पता लगाने एवं इसे सही करने में अधिक समय एवं वह होता है। ऐसे नेटवर्क में डाटा की चोरी जैसी घटनाएं भी संभव होती हैं।

How to download PDF in Computer/Laptop

Khushboo Guptahttps://untoldtruth.in/
Hii I'm Khushboo Gupta and I'm from UP ,I'm Article writer and write articles on new technology, news, Business, Economy etc. It is amazing for me to share my knowledge through my content to help curious minds.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

BEST DEALS