LINUX Operating System Computer Project Class 10th

793

लाइनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम

‘लाइनक्स’ शब्द का प्रयोग पूरे ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए किया जाता है। यह प्रोग्राम एक मुक्त 32 बिट वाला प्रिंटिंग सिस्टम है। लाइनक्स को विकसित करने का श्रेय लाइनक्स टार वार्ल्डस को दिया जाता है। उन्होंने 5 अक्टूबर, 1991 कोलाइनेक्स का प्रथम संस्करण रिलीज़ किया। लाइनक्स टार वार्ल्डस ने इस संस्करण को स्वयं हेलसिंकी यूनिवर्सिटी, फिनलैंड में विकसित किया। इसके बाद इंटरनेट के माध्यम से तथा अनेक यूनिक्स भाषा के प्रोग्रामों की सहायता से लाइनक्स के विकास की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया।

वर्तमान समय में लाइनक्स का ट्रेडमार्क लाइनस टार वार्ल्डस के पास है, लेकिन लाइनक्स करनैल एवं इससे संबंधित लगभग समस्त सॉफ्टवेयर GNU जनरल पब्लिक लाइनेक्स के अंतर्गत सभी के लिए उपलब्ध है। लाइनक्स को GNU जनरल पब्लिक लाइसेंस के अंतर्गत डिस्ट्रीब्यूट किए जाने का एक सुखद परिणाम यह हुआ कि विश्व के अनेक कंप्यूटर विशेषज्ञों ने अपने अपने स्तर पर इसके विकास एवं सुधार की दिशा में शोध कार्य करना प्रारंभ कर दिया। परिणाम स्वरूप लगभग एक दशक में ही यह विश्व में सर्वाधिक प्रयोग किए जाने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम बन गया। लाइनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के अंतर्गत जहां एक और सॉफ्टवेयर एवं फाइल सिस्टम को और अधिक उन्नत बनाया गया है, वही कंप्यूटर की परिचालन गति में भी पर्याप्त सुधार किया गया है। इसके अतिरिक्त, इसमें ग्राफिक्स से संबंधित कार्यों को पहले की अपेक्षा और अधिक सुगमता से किया जा सकता है।

लाइनेक्स की विभिन्न डिस्ट्रीब्यूशन्स आज इतनी अधिक प्रचलित एवं उपयोगी सिद्ध हो चुके हैं कि इनका प्रयोग विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों, विश्वविद्यालयों एवं नासा जैसे संस्थानों में सफलता के साथ किया जा रहा है। इसमें संदेह नहीं कि कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम के क्षेत्र में लाइनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम का उद्भव एक क्रांतिकारी कदम है।

लाइनक्स के इंटरफेस

लाइनक्स में दो प्रकार के इंटरफेस की सुविधा उपलब्ध है।

(1) कमांड लाइन इंटरफ़ेस (C.L.I.)

(2) ग्राफिकल यूजर इंटरफेस (G.U.I.)

कमांड लाइन इंटरफेस ( Command Line Interface) :

कमांड लाइन इंटरफेस को संक्षेप में सी एल आई भी कहा जाता है। इस प्रकार के इंटरफेस में ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ संबंध कमांड के रूप में केवल कीबोर्ड के द्वारा ही किया जाता है। कमांड लाइन इंटरफेस में कार्य करना आसान है, इसमें एक प्राम्प्ट होता है जो $ चिन्ह द्वारा प्रदर्शित किया जाता है। $ प्राम्प्ट पर कमांड को टाइप करके ‘इंटर की’ दबाने पर आदेश क्रियान्वित होते हैं। लाइनक्स में $ प्राम्प्ट को कमांड लाइन कहा जाता है। तथा यह इंटरफ़ेस सर पर आधारित होता है।

(2) ग्राफिकल यूजर इंटरफेस (Graphical User Interface) :

लाइनक्स में कमांड लाइन इंटरफेस के अतिरिक्त ग्राफिकल यूजर इंटरफेस की सुविधा भी उपलब्ध है। ग्राफिकल यूजर इंटरफेस को संक्षेप में GUI कहा जाता है। इस प्रकार के इंटरफेस में ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्य माउस तथा कीबोर्ड दोनों के द्वारा किया जाता है। यह सुविधा इंटरफेस डेस्कटॉप और विंडोमैनेजर के रूप में उपलब्ध है। डेस्कटॉप में विभिन्न प्रकार की आइकॉन एवं मैन्यू होते हैं, जो माउस द्वारा क्रियान्वित होते हैं। लाइनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम में कमांड लाइन इंटरफेस या ग्राफिकल यूजर इंटरफेस किसी पर भी कार्य किया जा सकता है। ग्राफिकल यूजर इंटरफेस अधिक तीव्र होता है। तथा उपयोगकर्ताओं के लिए इस पर कार्य करना बहुत आसान होता है। कमांड लाइन इंटरफेस की अपेक्षा ग्राफिकल यूजर इंटरफेस में कमांडो को याद नहीं करना पड़ता है।

लाइनक्स के कमांड

लाइनक्स में किसी फाइल में लिखे टेक्स्ट पर प्रोसेसिंग करने के लिए कई कमांड उपलब्ध है, जिनमें से प्रमुख निम्नलिखित है।

(1) more :

more कमांड का उपयोग किस फाइल में संगृहीत सूचनाओं को एक बार में एक स्क्रीन में आने वाली सामग्री को देखने में किया जाता है। किसी फाइल में संग्रहित सूचनाओं की एक स्क्रीन में आने वाली सामग्री को दिखाने के बाद more आदेश स्क्रीन को रोके रखता है। स्पेस बार दबाने पर अगली स्क्रीन दिखाई पड़ती है। इस प्रकार स्पेस बार दबाकर आप पूरी फाइल की सामग्री देख सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप abc नामक एक फाइल बनाएं।

$cat>abc

one

two

three

four

five

six

seven

eight

nine

ten

eleven

twelve

thirteen

fourteen

fifteen

Ctrl + D

$

यदि अब आप कमांड प्राम्प्ट $ पर more abc आदेश लिखे तो आउटपुट स्क्रीन इस प्रकार से दिखाई देगी।

(2) cat :

cat कमांड की सहायता से किसी फाइल का निर्माण निम्न प्रकार से करेंगे।

$cat > File 1

इस कमांड को लिखने के पश्चात Enter key दबाएं। ऐसा करने पर कर्जर अगले लाइन में आ जाएगा, इसके पश्चात कि बोर्ड द्वारा डाटा टाइप कीजिए जो कि आप फाइल में संग्रहित करना चाहते हैं। समस्त डाटा टाइप करने के पश्चात Ctrl + d दबाएं। ऐसा करने पर cat कमांड आपके द्वारा टाइप किए गए डाटा को File 1 नमक फाइल में संग्रहित कर देगी।

cat कमांड का प्रयोग फाइल के डाटा को स्क्रीन पर प्रदर्शित करने में भी किया जाता है। $ cat File 1 कमांड लिखने पर File 1 कमांड की सहायता से हम अनेक फाइलों के डाटा को जोड़कर एक नई फाइल का निर्माण भी कर सकते हैं।

$ cat system 1 >system 2 > system

इस कमांड की सहायता से system नामक एक फाइल बनेगी जिसमें system 1 और system 2 फाइलों का डाटा सम्मिलित रूप से होगा।

(3) Is :

Is कमांड की सहायता से हम फाइल ओर डायरेक्टरी की सूची स्क्रीन पर देख सकते हैं। कमांड लिखने पर वर्तमान डायरेक्टरी में उपलब्ध फाइल ओर डायरेक्टरी की सूचना, सूची के रूप में स्क्रीन पर आ जाएगी।

Is कमांड के साथ -a विकल्प का प्रयोग करने पर यह hidden files को भी सूची रूप मैं दिखाई देता है।

Is कमांड के द्वारा किसी डायरेक्टरी के अंतर्गत बनी फाइलों और डायरेक्टरी यों को भी दिखाया जा सकता है।

Isnaveen/*

Is कमांड के साथ वाइल्डकार्ड अक्षरों (* और ?) का प्रयोग भी संभव है; जैसे- Is M* कमांड की सहायता से उन सभी फाइलों को प्रदर्शित किया जा सकता है जिसका नाम अक्षर M से प्रारंभ हो।

उपर्युक्त कमांड लिखने पर naveen नामक डायरेक्टरी के अंतर्गत समस्त फाइल ओर डायरेक्टरियों को प्रदर्शित किया जा सकता है।

Is कमांड के साथ -1 विकल्प का प्रयोग करने पर यह फलों के नाम के अतिरिक्त अन्य विशिष्ट सूचनाएं भी प्रदर्शित करता है।

(4) mkdir :

इस कमांड का प्रयोग डायरेक्टरी के निर्माण के लिए किया जाता है।

$mkdir monu

उपर्युक्त कमांड वर्तमान डायरेक्टरी के अंतर्गत monu के नाम से एक अन्य डायरेक्टरी का निर्माण करेगी। यदि प्रयोग करता को नई डायरेक्टरी का निर्माण किसी अन्य डायरेक्टरी के अंतर्गत करना हो तो mkdir कमांड के साथ पूरा path देना होता है।

जैसे- यदि use डायरेक्टरी के अंतर्गत monu 1 नाम से डायरेक्टरी बनानी हो तो कमांड निम्न प्रकार लिखा जाएगा –

$mkdir/usr/monu 1

स्व – मूल्यांकन हेतु निर्देशन

प्रोजेक्ट कि अपनी तैयारी का अध्ययन करने के लिए आपको निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर आने चाहिए।

प्रश्न 1. लाइनेक्स को विकसित करने का श्रेय किसको दिया जाना है?

उत्तर- लाइनेक्स को विकसित करने का श्रेय लाइनस टार वार्ल्डस को दिया जाता है।

प्रश्न 2. लाइनक्स का प्रथम संस्करण कब रिलीज हुआ?

उत्तर- 5 अक्टूबर, 1991 को लाइनक्स का प्रथम संस्करण रिलीज हुआ।

प्रश्न 3. सी.एल.आई. क्या है?

उत्तर- कमांड लाइन इंटरफेस को संक्षेप में सी. एल. आई. कहा जाता है।

प्रश्न 4. more कमांड का उपयोग बताइए।

उत्तर – more कमांड का उपयोग किसी फाइल में संग्रहित सूचनाओं को एक बार में एक स्क्रीन में आने वाली सामग्री को देखने में किया जाता है।

प्रश्न 5. mkdir कमांड का प्रयोग कब किया जाता है।

उत्तर- mkdir कमांड का प्रयोग डायरेक्टरी निर्माण के लिए किया जाता है।

अगर आपको हमारा यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे विभिन्न Platform पर शेयर कीजिए।

read also :

संचार के प्रकार एवं माध्यम (Kinds and medium of communication)

Function Computer Science Project Class 10th

Computer Science Project Work-4 Class 10th

Class 10th Computer Science Project Work-3

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here