मीडिया एनेस्थेटिक/Media Anesthetic (शरीर को सुन्न करने) की दवा है 1

Media Anesthetic

जिस तरह यह दवाई लगाने से बॉडी पार्ट्स सुन्न हो जाते है फिर वहां कुछ भी करो,कोई फर्क नहीं पड़ता है।

.
सरकारें हर वक़्त भाला लेकर आपके शरीर मे से खून निकलती रहती है लेकिन मीडिया उस स्थान पर यह एनेस्थेटिक दवाई लगाकर सुन्न कर देता है जिससे आपको दर्द का अहसास नहीं होता है।

यदि सरकारे बिना सुन्न किये ,खून निकाले तो आपको बहुत ज्यादा दर्द होगा औऱ आप विद्रोह कर देंगे।

.

Media Anesthetic
Media Anesthetic


उदाहरण के लिये
जब बहुराष्ट्रीय कंपनियों को अतिरिक्त फायदे के लिये GST छापा, तो मीडिया ने छोटे व मध्यम व्यापारियों को टैक्स चोर करार दे दिया,ताकि लोगो को GST के लिये तैयार किया जा सके।

विदेशी धनिकों के दबाव में जब lockdown ठोका तो मीडिया ने बड़ी चतुराई को-रोना को lockdown से लिंक करके एनेस्थेटिक दवाई दी।

चाहे देश की सम्पतियों का बेचने को निजीकरण का लेबल लगाकर व सरकारी कर्मचारियों को कामचोर बताकर सार्वजनिक सम्पतियों के बेचान को जायज ठहराया जाता है।

इसी प्रकार हजारो उदाहरण आपको नजर आ जाएंगे यदि आपने एनेस्थेटिक दवाई नहीं ले रखी है।

.
सॉल्यूशन:- वोट वापसी दूरदर्शन चैयरमेन व जुरीकोर्ट व #WOIC

जिससे निजी मीडिया के एनेस्थेटिक इंजेक्शन से पब्लिक को दूर किया जा सकें।

Also Read:- Class 10th Notes of All Subject

Bindesh Yadavhttps://untoldtruth.in
CEO& Owner of Untold Truth "Stop worrying what you have been Loss,Start Focusing What You have been Gained"

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

BEST DEALS