डॉ हर्षवर्धन के खत के बाद रामदेव बाबा ने लिया अपना बयान वापस

रामदेव बाबा ने कहा कि व्हाटसएप पर आए एक मैसेज को मैने सिर्फ पढकर सुनाया था जिसके कारण वस कई लोगो की भावना को ठेस पहुंची उसके लिए मुझे खेद है

रामदेव बाबा ने एलोपैथी डाक्टरो पर चलते विवाद को लेकर अपना बयान वापस लिया उन्होंने डॉ हर्षवर्धन को चिट्ठी ट्वीट करते हुए कहा कि माननीय डाक्टर आपका पत्र प्राप्त हुआ उसके संदर्भ में चिकित्सिया पद्धतियों के संघर्ष के विवाद पर विराम देते हुए मै अपने बयान को वापस लेता हूँ हम आधुनिक चिकित्सा व एलोपैथी के विरोधी नही है जीवन रक्षा प्रणाली ही मानवता की सेवा है

मेरा जो एक वक्तव्य कोट किया गया है यह एक कार्यकर्ता बैठक का वक्तव्य है, जिसमें मैंने आए हुए व्हाट्सएप मैसेज को पढ़कर सुनाया था. उससे अगर किसी की भावना को ठेस पहुंची तो मुझे खेद है

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन रामदेव के एलोपैथी वाले ब्यान को लेकर उन्हें खत लिखकर अपना ब्यान वापस लेने को कहा उन्होने ट्विटर पर इसे सार्वजनिक किया

उन्होंने ट्विटर हैंडल पर कैप्शन में लिखा है, संपूर्ण देशवासियों के लिए #COVID19 के खिलाफ़ दिन-रात युद्धरत डॉक्टर व अन्य स्वास्थ्यकर्मी देवतुल्य हैं. बाबा रामदेव के वक्तव्य ने कोरोना योद्धाओं का निरादर कर,देशभर की भावनाओं को गहरी ठेस पहुंचाई है. मैंने उन्हें पत्र लिखकर अपना आपत्तिजनक वक्तव्य वापस लेने को कहा है.

उन्होंने कहा कि एलोपैथिक दवाओ और डाक्टरों पर आपकी बाते देशवासियो के लिए बेहत आहत है लोगों की भावना के बारे में में पहले ही आपको फोन पर अवगत कर चुका हूं पूर्ण देश कोरोना से लड रहा है आपके बयान ने ना केवल कोरोना योद्धाओ को दुख पहुंच है बल्कि देशवासियों की भावनाओं को ठेस पहुंची है

कोरोना महामारी के इस दौर में एलोपैथी और उससे जुड़े डॉक्टरों ने करोड़ों लोगों को नया जीवनदान दिया है

यह कहना बेहद ही दुभाग्यपूर्ण है कि लोगो की मौत एलोपैथी दवाओ की वजह से हो रही है

एलोपैथी चिकित्सा पद्धति को तमाशा, बेकार और दिवालिया बताना भी अफसोसनाक है. आज लाखों लोग कोरोना से ठीक होकर घर जा रहे हैं. कोरोना से मृत्यु दर 1.13 फीसदी औऱ रिकवरी रेट 88 फीसदी से अधिक है. इसके पीछे एलोपैथी और डॉक्टरों का अहम योगदान है

” इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने रामदेव बाबा को कानूनी नोटिस भेजा है

स्वास्थ्य कर्मियों के साथ एकजुटता दिखाते हुए और पूरे देश में रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन (RDAs) की तरफ से बाबा रामदेव को कानूनी नोटिस भेजा है

पतंजलि योगपीठ ने Ima द्वारा लगाए आरोपी को मानने से मना किया

पतंजलि ने लोगों को गुमराह करने और वैज्ञानिक चिकित्सा को बदनाम करने के आरोपों को मना किया है

रामदेव बाबा ने ट्विट्र किया है MBBS के ड्राक्टर ने योग के द्वारा डायबिटीज ठीक कर लिया है MBBS के स्टूडेंट केशव नागपाल ने नियमित योगा करके व गिलोय पिकर टाइप 1 डायबिटीज को ठीक किया है।

Related posts

Leave a Comment