रूसी आर्कटिक के White sea में बर्फ क्यों चमक रही है?

White sea में बर्फ का चमकना :

रूस के North के अंदर White sea है। उस White sea के अंदर एक विशेष प्रकार की चमक आ रही है। बर्फ के नीचे एक इस प्रकार की जगमगाहट दिखाई दे रही है ऐसा लग रहा है कि किसी ने बर्फ के नीचे बल्ब जला दिए हो।

कहां है? White sea :

White sea Colour code के आधार पर इसका नाम White sea पड़ा। यह उस जोन में है जहां यह पूरी समय बर्फ से ढका रहता है, यानी कि एक तरह से यह आर्कटिक क्षेत्र के अंदर स्थित एक समुद्र है जो कि Russia के साथ में जुड़ा हुआ है। जिसे आप White sea के नाम से जानते हैं। दुनिया में बहुत से ऐसे Ocean है, जो Colour code के आधार पर जाने जाते हैं। जैसे- उत्तर में White sea जाना जाता है, पश्चिम में Black sea जाना जाता है, दक्षिणी की तरफ Red sea जाना जाता है और पूरब की तरफ Yellow sea जाना जाता है।

Yellow sea China से Belong करता है।Red sea स्वेज कैनाल के माध्यम से भूमध्य सागर से जुड़ा हुआ है।Black sea जो है, वह Phosphorus Street के माध्यम से मरमरा sea से जुड़ा हुआ है। और मरमरा sea जो है वह डार्डनिलिस स्ट्रीट के माध्यम से Mediterranean ocean से जुड़ा हुआ है।

बर्फ क्यों चमक रही है?

वैज्ञानिकों ने यहां पर देखा, कि इस पानी के अंदर बर्फ जमी हुई है, और बर्फ के नीचे जैसे प्रकृति खुद त्यौहार मनाने का इंतजार कर रही हो। ऐसे समुद्र के नीचे लाइट जलना शुरू हो गई। इसके बाद वैज्ञानिकों के मन में जबरदस्त कौतूहल बना कि आखिर में यह हो क्या रहा है? समुद्र के नीचे लाइट कैसे चल रही है? इसके बारे में जानकारी मिली, तो पता चला कि दोस्तों यह कोई समुद्री जीव है जो समुंद्र के अंदर रहता है और उस समुद्री जीव के अंदर ही लाइट जल रही है। आपको जानकारियां हैरानी होगी पर यही सत्य है। जिस प्रकार हम लोग ग्रीष्म ऋतु में जुगनू को देखते हैं; इसी प्रकार यह समुद्री जीव है। इस जुगनू को Fire fly के नाम से जानते हैं।बिल्कुल ऐसे ही लोगों के मन में विचार आया, किया कोई ऐसा जीव है जो पानी के अंदर रहता है और यह रिसर्च एकदम सही है।

बर्फ में चमकने वाला जीव :

बर्फ के नीचे पाया गया यह जीव जो 80 सालों बाद देखी गई है। यह वास्तव में पानी के अंदर करने वाला Zoo plantons है। सामान्यतया समुद्र के अंदर हम लोग मछलियों के बारे में जानते हैं, प्लांट्स के बारे में जानते हैं, लेकिन कुछ ऐसे जीव भी होते हैं जो कि तैरते रहते हैं। मैं तो इसके ऊपर सिर बना हुआ है, न पर बने हुए हैं, नजर बना हुआ हैं अर्जुन तना बना हुआ है। वह करते रहते हैं ऐसे जीव Plantons कहलाते हैं यानी यह तैरने वाले जीव अपना भोजन खुद बनाए तो यह Fito planktons कहलाते हैं और यदि यह अपना भोजन किसी और के माध्यम से पूरा करें, तो यह Zoplanktons कहलाते हैं इन्हीं Zoplanktons के अंदर जो जीव यहां पर चमक रहा है। उसका नाम है Copepod। Copepod नाम से यह जीव है जो चमक रहा है। ऐसे सभी जो जन के अंदर जीवन हैं अगर वह चमकते हैं तो ऐसे जीवो को Bioluminescent कहा जाता है। Bioluminescent वह सभी जीव जो कि चमकने की प्रवृत्ति रखते हैं। Bioluminescent कहलाते हैं। यह बिल्कुल वैसे ही हैं जैसे कि Firefly (जुगुनू) के अंदर जो चीज चमकने की होती है। वह भी Bioluminescent कहलाती है। Copepod का Biological name – मैट्रीडिया लोंगा है। Mateidiya longa नाम से यह जीव है जो पानी के अंदर चमक रहा है।

Copepod

ये जीव क्यों चमकते हैं?

वास्तव में दोस्तों ऐसे जीवन में कुछ chemicals पाए जाते हैं। Bioluminescent जीव में जो केमिकल पाए जाते हैं उनका नाम- Luciferin है। ये Bioluminescent जीवो के अंदर जो केमिकल्स पाए जाते हैं यही चमकने का कार्य करते हैं।

ये रात को ही क्यों चमकते हैं?

सामान्यतया Luciferin chemicals रखने वाला ये Zoplanktons समुद्र की गहराई में रहता है यह लगभग समुद्र से 300 फीट नीचे गहराई में रहता है। लेकिन कई बार यह ऊपर की तरफ उड़कर यह पानी के अंदर चलता हुआ ऊपर आ जाता है तो वहां पर Luciferin chemicals रखने वाले इस Copepod के साथ पानी के अंदर गोली हुई ऑक्सीजन रहती है। वह इससे React कर लेती है। और यहLuceferin chemical वो लूसीफरेज एंजाइम की उपस्थिति में अपनी इस ऑक्सीजन से हुई रिएक्शन के कारण चमकने लगता है।

इस Copepod को एक और नाम से जानते हैं। इसका Bugs of the sea है। इसे समुद्र का Bug भी कहा जाता है। यह घटना 80 सालों बाद देखी गई है। सामान्यतया से जीव बार-बार नहीं दिखाई देते हैं। और एक दृश्य California के अंदर देखा गया है। जहां पर समुद्र की ज्वार है वह रात के अंधेरे में Blue colour से चमक रही है। यहां पर देखा गया है कि समुद्र की लहरें रात में नीले रंग से चमक रही हैं यह नजारा भी इसी Copepod के कारण दिखाई पड़ रहा है।

संक्षेप में :

हमने यहां बहुत सारी चीजों के बारे में पढ़ा। जैसे-White sea कहां है?, बर्फ की चमक रही है?, यह जीव चमकती क्यों है? यह रात को ही क्यों चमकते हैं? इत्यादि

आइए ऊपर हमने जितने भी जानकारियां प्राप्त की है उसे संक्षेप में देखते हैं। कुछ नहीं वास्तव में चमकते हैं चमकने के पीछे जो जिम्मेदार कारक है वहीं के अंदर उपस्थित कोई केमिकल है। ऐसे सभी जो जो चमकते हैं Bioluminescent कहलाते हैं। जिस केमिकल के कारण ही चमकते हैं वह Luciferin कहलाते हैं। Luciferin को ऑक्सीजन से क्रिया कराने पर जो इल्जाम काम आता है उसे लूसीफरेज कहलाते हैं। और यह लूसीफरेज नामक एंजाइम है यह Luciferin की ऑक्सीजन की उपस्थिति में रिएक्शन करवा कर उस रिएक्शन में ऊर्जा का उत्सर्जन करता है। जिसके चलते हुए यह जीव यहां चमकते हुए दिखाई पड़ते हैं।

अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आया हो तो इसे अन्य plateform पर share कीजिए।

read also :

Light Pollution In Hindi – प्रकाश प्रदूषण कारण, प्रभाव और उपाय 1

योगी सरकार क्यों बांट रही है free में tablet और laptop?

कल की हेलीकॉप्टर क्रैश की घटना एक षड्यंत्र!!

Kishan diwas ki hardik shubhkamnaye

LINUX Operating System Computer Project Class 10th

Economic Survey 2022-2023 : बजट से पहले पेश किया गया Economic Survey Report

वित्‍तमंंत्री निर्मला सीतारमण ने सदन में कल दोपहर लगभग 1 बजे आर्थिक सर्वे की रिपोर्ट पेश की इसमें अगले वित्‍तवर्ष के लिए 6 फीसदी...

UP Board Class 12th previous Years Question Paper PDF For both Hindi & English Medium

UP Board class 12th previous years question papers pdf of all subject For Both HINDI and ENGLISH MIDIUM STUDENT .
Khushboo Guptahttps://untoldtruth.in/
Hii I'm Khushboo Gupta and I'm from UP ,I'm Article writer and write articles on new technology, news, Business, Economy etc. It is amazing for me to share my knowledge through my content to help curious minds.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

BEST DEALS

Most Popular